लाखो रूपये हर महीने के खर्च के बाद भी मोइनुल हक स्टेडियम का हाल यैसा क्यों ?

मोईनुल हक स्टेडियम को बिहार क्रिकेट संघ ने बुक कर रखा है और इसके रख रखाव की जिम्मेवारी भी बिहार क्रिकेट संघ को ही करना है इसके लिए बिहार क्रिकेट संघ ने कुछ मैदान कर्मी को भी नियुक्त किया है ।

सवाल यह है की लाखों लाख रुपये प्रतिमाह बिहार क्रिकेट संघ के द्वारा इन मैदान कर्मी पर खर्च किया जाता है फिर भी क्रिकेट पिच और मैदान की स्तिथि इतना खराब कैसे है ? इसके अलावा बी सी सी आई के द्वारा भेजा गया करोड़ों का मैदान बनाने का मशीन मैदान में इधर-उधर रखा हुआ है जबकि मशीन के रख रखाव की अति आवश्यकता है जोकि नहीं हो रहा है।

अभी बरसात का मौसम आने बाला है और मोईनुल हक स्टेडियम के मैदान में बरसात में पानी जमा हो जाता है ये सभी को मालूम है तो फिरे ये लापरवाही क्यो ? इस तरह के लापरवाही से करोड़ों का मशीन बरबाद हो रहा है। इसके मुख्य कारण हैं देवी शंकर कियूरेटर की ज्यादातर  गैर मौजूदगी जिसके कारण सारे मैदान कर्मी शायद ही कभी एक साथ मैदान में उपलब्ध रहतें हैं या कार्य करते दिखाई देते है कियूरेटर देवी शंकर जोकि भागलपुर में एक सरकारी उच्च विद्यालय के शारीरिक शिक्षक के पद पर कार्यरत हैं इसके और भी कारण है ज्यादा तर मैदान कर्मी पटना से बाहर के हैं।

हिमांशु कुमार भागलपुर के वो तो दिखाई नहीं देतें है लेकिन जो भी सुविधायें सभी को मिलता है तो वो उन्हे भी प्राप्त होता है। मैदान में पटना के होनें के कारण मंटू कुमार और सुभम कुमार और राजीव नन्दन सिंह ( मुजफ्फरपुर ) ज्यादा तर दिखाई देते हैं।

देवी शंकर तथा कथित कियूरेटर जो भागलपुर में एक सरकारी उच्च विद्यालय में शारीरिक शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं और हिमांशु कुमार तथाकथित सहायक कियूरेटर को किस आधार पर उच्च वेतन देकर नियुक्ति की गई  ? जबकि इन दोनों से ज्यादा अनुभवी और बिहार क्रिकेट संघ के लिए कार्य कर रहे हैं मंटू कुमार पटना और राजीव नन्दन सिंह मुजफ्फरपुर हैं, इन दोनों ने पहले बी सी सी आई के द्वारा आयोजित ट्रेनिंग में भाग भी ले चुके हैं, तो इन दोनों अनुभवी लोगों को क्यो नही कियूरेटर और सहायक कियूरेटर बनाया गया  ?

हिमांशु कुमार मुजफ्फरपुर को तो पहले कभी बिहार क्रिकेट संघ के लिए कार्य करने का अनुभव भी नहीं था , और तो और देवी शंकर जो एक सरकारी कर्मचारी हैं जो ज्यादा समय अपने विधालय में देते हैं उन्हे कैसे नियुक्त किया गया ?