तेजस्‍वी यादव के नए पोस्‍टर पर कांग्रेस ने पूछे तीखे सवाल

राष्‍ट्रीय जनता दल की ओर से पटना में लगाए गए पोस्‍टरों ने कांग्रेस के लिए कुछ ऐसी ही स्थिति पैदा कर दी है। जदयू और भाजपा के नेता इस पोस्‍टर पर मजे ले रहे हैं। दरअसल, राजद की ओर से तेजस्‍वी यादव ने पांच जून को संपूर्ण क्रांति दिवस मनाने का एलान कर रखा है। इस दिन तेजस्‍वी यादव बिहार सरकार का रिपोर्ट कार्ड पेश करने वाले हैं।

पटना में लगाए गए पोस्‍टरों में इस कार्यक्रम को महागठबंधन की ओर से आयोजित बताया गया है। खास बात है कि पांच जून को होने वाले संपूर्ण क्रांति दिवस का आयोजक राजद की ओर से जारी पोस्‍टरों में महागठबंधन को बताया गया है। इन पोस्‍टरों में लोकनायक जय प्रकाश नारायण के अलावा केवल तेजस्‍वी यादव की बड़ी तस्‍वीर लगी है। कुछ पोस्‍टरों में तेजस्‍वी यादव के पिता और राजद अध्‍यक्ष लालू यादव के अलावा वाम दलों के चंद नेताओं की तस्‍वीरें हैं। लेकिन कांग्रेस का कोई चेहरा नहीं दिखता।

इन पोस्‍टरों ने कांग्रेस के लिए असहज स्थिति पैदा कर दी है। दरअसल, बिहार में कांग्रेस नेताओं का कहना है कि राजद के साथ उनका गठबंधन तब तक बना रहेगा, जब तक कि आलाकमान की ओर से इसके बारे में कोई फैसला नहीं ले लिया जाता। दूसरी तरफ, राजद के पोस्‍टर से ऐसा लग रहा है कि महागठबंधन से कांग्रेस को बाहर कर दिया गया है। इस पूरे मसले पर तेजस्‍वी यादव का बयान भी कुछ ऐसा ही है।

कांग्रेस ने इसे लेकर तेजस्‍वी यादव से कई सवाल पूछे हैं। तेजस्‍वी यादव ने कहा कि विधान सभा के चुनाव में कांग्रेस ने महागठबंधन प्रत्‍याशी के खिलाफ उम्‍मीदवार दिए। उन्‍होंने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि अगर उन्‍हें लगता है कि उनमें दम है तो यह तो अच्‍छी बात है। तेजस्‍वी के इस बयान से साफ जाहिर होता है कि उन्‍हें अब कांग्रेस की जरा भी परवाह नहीं है। बिहार कांग्रेस के प्रवक्‍ता असित नाथ तिवारी ने राजद की ओर से हो रहे आयोजन और पोस्‍टरों को लेकर तेजस्‍वी यादव पर हमला किया है।

इस पूरे प्रकरण पर जदयू और भाजपा के नेता मजे ले रहे हैं। भाजपा ने कहा है कि राजद की नीति इस्‍तेमाल करने और फेंक देने की है। बिहार में राजद ने कांग्रेस को अपने साथ जोड़कर पूरी तरह बर्बाद कर दिया है। इधर, जदयू के प्रवक्‍ता अभिषेक आनंद ने कहा कि तेजस्‍वी यादव बिहार को बदनाम करने के लिए किसी हद तक जा सकते हैं। उन्‍होंने राजद और कांग्रेस के बीच चल रही रस्‍साकशी को नूराकुश्‍ती बताते हुए कहा कि इससे कोई फायदा होने वाला नहीं है।