पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी: दिल्ली की जामा मस्जिद के बाहर प्रदर्शन, देश के अन्य राज्य में भी माहौल गरम

निलंबित भाजपा नेता नुपुर शर्मा और निष्कासित नेता नवीन जिंदल की भड़काऊ टिप्पणी के खिलाफ दिल्ली की जामा मस्जिद में बड़ी संख्या में लोगों ने आज विरोध प्रदर्शन किया। पैगंबर मोहम्मद पर की गई भाजपा नेताओं की टिप्पणी के बाद से ही देश में लगातार विरोध प्रदर्शन किए जा रहे हैं।

वहीं आज दिल्ली की जामा मस्जिद में भी लोगों ने जोरदार विरोध दर्ज किया। इस विरोध प्रदर्शन को लेकर दिल्ली सेंट्रल की डीसीपी श्वेता चौहान ने बताया कि जामा मस्जिद में जुमे की नमाज के लिए करीब 1500 लोग जमा हुए थे। नमाज के बाद करीब 300 लोग बाहर आए और नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल की भड़काऊ टिप्पणी का विरोध करने लगे। उन्होंने कहा कि ये लोग नवीन जिंदल और नूपुर शर्मा के विवादित बयान को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे।

हमने वहां से लोगों को हटा दिया है। स्थिति अब नियंत्रण में है। हमने 10-15 मिनट में इस पर काबू पा लिया। इन लोगों ने प्रदर्शन सड़क पर और बिना अनुमति के किया था, जिस पर हम कानूनी कार्रवाई करेंगे। वहीं जामा मस्जिद के शाही इमाम का कहना है कि मस्जिद ने विरोध का कोई आह्वान नहीं किया था। हम नहीं जानते कि विरोध करने वाले कौन हैं, मुझे लगता है कि वे एआईएमआईएम के हैं या ओवैसी के लोग हैं। मस्जिद कमेटी की ओर से विरोध का कोई आह्वान नहीं किया गया था।

वास्तव में, कल जब लोग विरोध करने की योजना बना रहे थे तो हमने उनसे स्पष्ट रूप से कहा कि जामा मस्जिद (समिति) से विरोध का कोई आह्वान नहीं है। हमने स्पष्ट कर दिया कि अगर वे विरोध करना चाहते हैं, तो वे कर सकते हैं। लेकिन हम उनका समर्थन नहीं करेंगे।बता दें कि, पैगम्बर मोहम्मद पर आपत्तिजनक टिप्पणी के मामले को लेकर बीजेपी नवीन कुमार जिंदल को निष्कासित और नूपुर शर्मा को निलंबित कर चुकी है।

टीवी डिबेट के दौरान नुपूर शर्मा ने कथित तौर पर पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ कुछ अपमानजनक टिप्पणी कर दी थी। वहीं नवीन कुमार जिंदल ने एक जून को पैगंबर मोहम्मद के बारे में एक ट्वीट किया था। नूपुर शर्मा और नवीन कुमार जिंदल की विवादित टिप्पणियों के बाद भारत में जहां विरोध प्रदर्शन हुए तो वहीं खाड़ी देशों से इस पर कड़ी प्रतिक्रियाएं सामने आई।