15 साल बाद बिहार के शहरी निकाय चुनाव प्रक्र‍िया में बदलाव, ये हैं नई नियमावली

बिहार के शहरी निकायों की व्‍यवस्‍था में 15 साल के बाद बदलाव किया गया है। इससे जुड़े कानून में संशोधन हुआ तो इसके अनुरूप नई नियमावली भी तैयार की गई। सोमवार को मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक प्रारूप को मंजूरी दी गई।नियमावली को औपचारिक तौर पर मंत्रिमंडल की मंजूरी मिलने के बाद यह लागू भी हो गई है।

ऐसे में मेयर-डिप्टी मेयर के साथ मुख्य पार्षद और उप मुख्य पार्षद अब सीधे जनता के वोट से ही चुने जाएंगे। बिहार नगरपालिका निर्वाचन संशोधन नियमावली 2022 के प्रारूप पर प्रदेश सरकार ने मुहर लगा दी है। सूत्रों के अनुसार बिहार नगरपालिका कानून में 15 वर्षों बाद संशोधन हुआ है। इसका प्रभाव राज्य के 19 नगर निगमों के साथ 263 नगर निकायों पर पड़ेगा।

इस साल मई-जून में शहरी निकायों में चुनाव संभावित हैं। अभी तक नगर निगम में मेयर व डिप्टी मेयर, जबकि नगर परिषद और नगर पंचायतों में मुख्य पार्षद और उप मुख्य पार्षद का चुनाव अप्रत्यक्ष रूप से होता था। जनता के प्रत्यक्ष वोट से चुने जाने वाले मेयर-डिप्टी मेयर गोपनीयता की शपथ लेंगे और कार्यभार ग्रहण करेंगे।