बिहार सरकार ने राज्य के सभी ग्राम पंचायतों के लिए अपनी वेबसाइट दीक्षित करने का निर्देश जारी किया।

बिहार के पंचायती राज विभाग ने सभी ग्राम पंचायतों के लिए अपनी खुद की वेबसाइट दीक्षित करने के लिए राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (NIC), इलेक्ट्रॉनिक्स डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड और अन्य केंद्र सरकार के संस्थान से मुखातिब हुआ। की सभी योजनाओं की स्थिति के साथ-साथ सारा गतिविधि हो सके। बिहार स्टेट हेडक्वार्टर में इसकी निगरानी होगी।

बिहार के पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने बताया की अलग अलग एजेंसियों से कोटेशन मिलने के बाद कुल 8387 ग्राम पंचायत की साइट निर्मित करने की परियोजना प्रारंभ हो जायेगी। जानकारी के अनुसार वेबसाइट में उस क्षेत्र के निर्वाचित प्रतिनिधियों की जानकारी के साथ साथ जनसंख्यांकीय ब्योरा, ऐतिहासिक महत्ता के स्थान, और सभी महत्वपूर्ण संस्थान शामिल रहेंगे।

उन्होंने यह भी बताया कि प्रबंधन सूचना प्रणाली (MIS) के साथ व्यापक वित्तीय प्रबंधन प्रणाली (CFMS) से भी लैस किया जायेगा ताकि ग्राम पंचायत के विकास और सभी गतिविधियों पर खर्च हुए सभी तरह के फंड को अच्छे से ट्रैक किया जा सके और फंड के पाई पाई का हिसाब हो सके। पंचायत के सभी निर्वाचित प्रतिनिधियों तथा अन्य आला अधिकारियों को वेबसाइट को मैनेज करने के लिए प्रशिक्षण भी दिया जायेगा।

विभाग के अधिकारियों का कहना है कि राज्य के ग्राम पंचायत में होने वाले अंधा धुन खर्चे और उसके द्वारा होने वाले कार्यों को मैनेज करने के लिए डिजिटल वित्तीय प्रणाली से निपटने के लिए यह स्टेप काफी जरूरी था।