BCA के सीईओ पर वीमेंस टी-20 टीम की एक सदस्य ने रुपये मांगने का लगाया आरोप

बिहार वीमेंस टी-20 टीम की घोषणा बिहार क्रिकेट एसोसिएशन ने सोमवार को कर दी। टीम की घोषणा के साथ ही बिहार क्रिकेट की पुरानी नीति पर जग जाहिर होने लगी है। दरअसल, इस टीम की सदस्य हैं जमुई की लड़की ज्योति कुमारी। ज्योति ने बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के सीईओ मनीष राज पर पैसा लेने का आरोप लगाया है। इस संबंध में उन्होंने के BCA अध्यक्ष समेत तमाम BCA के कमेटी ऑफ मैनेजमेंट, बीसीसीआई के पदाधिकारियों को ईमेल किया है।

अब यह ईमेल सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। हिन्द आवाज को भी यह ईमेल मिला है। परंतु इस ईमेल की सत्यता की बात हिन्द आवाज नहीं करता है। यह पूरी तरह से जांच का विषय है। वहीं इस संबंध में पूछे जाने पर बीसीए के पदाधिकारियों का कहना है कि अभी हमें इसकी जानकारी नहीं है। आपको बता दें कि वायरल ई मेल में क्या लिखा है

श्रीमान अध्यक्ष महोदय/ कमेटी आफ मैनेजमेंट
बिहार क्रिकेट संघ, पटना
सूचित कर रही हूं कि मेरा चयन बिहार महिला टी-20 टीम में हुआ है। वेबसाइट पर जारी सूची में मेरा नाम 25वें स्थान पर है। मैं जमुई जिले के नक्सल इलाके से आती हूं। वहां मैंने विपरित परिस्थितियों में महिला क्रिकेट को बढावा देने के लिए क्रिकेट खेलना शुरू किया। मैं बहुत ही गरीब और दलित परिवार से आती हूं।

काफी मेहनत के बाद मेरा चयन सत्र 2019-20 में स्टेट टीम में हुआ था। उसके बाद पुन: मेरा चयन सत्र 2021-22 के टी-20 महिला टीम में हुआ है। परंतु बहुत ही दुख के साथ सूचित करना पड़ रहा कि सूची प्रकाशित होने से पहले बिहार क्रिकेट संघ के सीईओ मनीष राज ने टीम चयन के लिए पांच लाख की मांग कर दी।

उनके इस आचरण मैं बहुत ही आहत हुई। इसके बाद सूची प्रकाशित हुई। सूची प्रकाशित होने के बाद वे उक्त राशि को उन्होंने होटल कामत का बिल सहित अन्य खर्चों के मद में भुगतान करने की बात कही। चूंकि मैं इतना पैसा नहीं दे सकती हूं। इसलिए मैंने उन्हें फोन कर सूची से नाम हटाने की बात कही।

महोदय मैं इतना पैसा देने में सक्षम नहीं हूं। इसलिए मैं आपसे और पूरी कमेटी आफ मैनेजमेंट से आग्रह करती हूं कि मेरा नाम सूची से हटा दिया जाय। उनके इस कारनामे से एक दलित लड़की की मानसिक स्थिति का ह्रास हुआ और मनोबल टूटा है। मैं पूरी कमेटी से आग्रह करती हूं कि इस पूरे मामले की उच्चस्तरीय जांच कराई जाय और सीईओ पर कड़ी कार्रवाई करने की कृपा करें। ताकि बिहार क्रिकेट संघ को बदनाम करने वाले ऐसे चेहरे से मुक्ति मिल सके। महोदय अगर मुझे इंसाफ नहीं मिला तो मैं न्यायालय का दरवाजा खटखटाने के लिए मजबूर हो जाउंगी।

प्रतिलिपि
श्रीमान सौरव गांगुली,अध्यक्ष ,बीसीसीआई
श्रीमान जय साह, सचिव ,बीसीसीआई
श्रीमान दिलीप सिंह, उपाध्यक्ष, बीसीए
श्रीमान आशुतोष नंदन सिंह,कोषाध्यक्ष,बीसीए
श्रीमान कुमार अरविंद, संयुक्त सचिव ,बीसीए
श्रीमान संजय सिंह, क्रिकेटिंग इंचार्ज सह जिला संघों के प्रतिनिधि ,बीसीए
श्रीमान आदर्श अग्रवाल, एजी नमानी ,बीसीए
श्रीमान अमीकर दयाल, खिलाड़ियों के प्रतिनिधि,बीसीए
श्रीमान राघवेन्द्र प्रताप सिंह,लोकपाल,बीसीए
महिला आयोग,दिल्ली व पटना
आपका विश्वासी
ज्योति कुमारी
स्टेट प्लेयर,बिहार