अक्षय तृतीया 3 को , मंगलवार को तृतीया होने से बन रहा सिद्धि योग, REAL ESTATE & GOLD में करें निवेश

3 मई को वैशाख शुक्ल पक्ष की तीज यानी अक्षय तृतीया पर्व मनाया जाएगा। ये पर्व मंगलवार को रोहिणी नक्षत्र में मनेगा। इस बार अक्षय तृतीया पर ऐसा पंच महायोग बन रहा जो आज तक नहीं बना। तिथि और नक्षत्र का महासंयोग होने से खरीदारी, निवेश और लेन-देन के लिए पूरा दिन शुभ रहेगा।


पटना के प्रसिद्ध ज्योतिषी मोहन जी के अनुसार इस बार अक्षय तृतीया पर सूर्य, चंद्रमा, शुक्र उच्च राशि में और गुरु, शनि अपनी ही राशि में रहेंगे। इस दिन शोभन और मातंग नाम के दो शुभ योग और रहेंगे। साथ ही केदार, शुभ कर्तरी, उभयचरी, विमल और सुमुख नाम के पांच राजयोग बनेंगे। इस तरह अक्षय तृतीया पर ग्रहों का महासंयोग पहली बार बन रहा है। जिससे इस दिन किए गए कामों से सुख और समृद्धि बढ़ेगी।

इस महापर्व पर ग्रह-नक्षत्रों के शुभ संयोग से देश की आर्थिक उन्नति होने के योग बनेंगे। व्यापारियों के लिए अच्छा समय रहेगा। हालांकि टैक्स वसूली भी बढ़ सकती है। लेकिन विदेशी निवेश बढ़ेगा। मोहन जी का कहना है कि मंगलवार को तृतीया तिथि होने से सिद्धि योग बन रहा है।

तृतीया को जया तिथि कहा जाता है। यानी जीत देने वाली। यही वजह है कि इस तिथि में किए गए काम लंबे समय तक फायदा देने वाले होते हैं। अक्षय तृतीया पर खरीदी ज्वेलरी और सामान शाश्वत समृद्धि के प्रतीक है। इस दिन खरीदा और पहना गया सोना अखण्ड सौभाग्य का प्रतीक होता है। इस दिन शुरू किए किसी भी नए काम या किसी भी काम में लगाई पूंजी में लंबे समय तक फायदा होता है।